Dyspepsia(अपच) से पाएं फुर्सत, मात्र 2 मिनटों में

Dyspepsia(अपच)

इस दौड़ भाग की जिंदगी में लोग इतना व्यस्त हो चुके है | कि वे अपनी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को नज़र अंदाज़ कर देते है | और इन्हीं आदतों से वे गंभीर बीमारी के शिकार हो जाते है | दुनिया में आधी से ज्यादा आबादी पाचन सम्बंधित समस्याओं से जूझ रही है | इन्हीं पाचन सम्बन्धी समस्याओं में एक बीमारी Dyspepsia(अपच) है | 

इस आर्टिकल में आप इस बीमारी से जुडी खास जानकारियाँ प्राप्त करेंगे | अतः आर्टिकल को शुरू से अंत तक पूरा पढ़े |

Dyspepsia(अपच) क्या है ?

यह पेट में होने वाला एक आम रोग है | जिसमें व्यक्ति पाचन सम्बन्धी समस्याओं से परेशान रहता है |

इस रोग को अपच, अजीर्ण या बदहजमी के नाम से जाना जाता है | 

अपच में व्यक्ति को पेट संबधी समस्याएँ रहती है | जैसे – पेट में हल्का दर्द, भारीपन, सूजन, गैस आदि | 

अपच क्यों होता है ?

अनियमित भोजन और असंतुलित आहार लेने के कारण यह बीमारी लोगों को प्रभावित करती है |

इस बीमारी से लोग लम्बे समय तक बीमार रहते है |

अपच होने के अन्य कारण निम्नलिखित है |

  • एक समय में भोजन की अधिक मात्रा लेने से अपच की समस्या हो सकती है | 
  • भोजन को अच्छी तरह चबाकर न खाने से Dyspepsia(अपच) की शिकायत बनी रहती है |   
  • चाय, काफी, कोकीन जैसी चीजों के अधिक सेवन से यह रोग हो सकता है |  
  • पित्ताशय की पथरी के कारण यह रोग उत्पन्न हो सकता है | 
  • अधिक घबराहट होने पर भी अपच की समस्या हो सकती है |
  • भोजन में तेल और वसायुक्त पदार्थो के अधिक सेवन से इस रोग के लक्षण दिख सकते है | 
  • इस रोग के होने का मुख्य कारण मोटापा भी है  |  

अपच के लक्षण 

पेट भरा महसूस करना – कभी – कभी व्यक्ति को खाली पेट या भोजन करने के बाद पेट में भारीपन महसूस होता है |

यह अपच का होने का संकेत है |  

भूख न लगना – Dyspepsia(अपच) से व्यक्ति को भूख नहीं लगती है |

और उसके खाना खाने की इच्छाशक्ति कम हो जाती है |

पेट फूल जाना- इस बीमारी में पेट फूलना एक आम संकेत है |

सीने में जलन महसूस करना – अपच से व्यक्ति को सीने में हल्की-हल्की जलन महसूस होती है |   

जी मचलाना- इस रोग के कारण कभी – कभी व्यक्ति का जी मचलाने लगता है | 

नींद कम आना- नींद का न आना भी अपच का संकेत है | 

दस्त होना-  इस बीमारी से व्यक्तियों को दस्त की शिकायत बनी रह्ती है | 

पेट में दर्द रहना – Dyspepsia(अपच) से पेट में हल्का दर्द बना रहता है | | 

उल्टी जैसा महसूस करना – इस बीमारी में व्यक्ति बार- बार उल्टी जैसा मसहूस करता है | 

रोगी को पसीना अधिक आना- अधिक पसीना आना भी अपच होने का संकेत है | 

सांस से दुर्गन्ध आना – पेट सम्बन्धी समस्या होने पर सांसों से दुर्गन्ध आने लगती है |

पेट में गैस बनना- अपच में गैस की समस्या अक्सर देखी जाती है | 

अपच से कैसे बचे ? 

इससे बचने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखे | 

तरल पदार्थ अधिक ले – आप अधिक मात्रा में तरल पदार्थ जैसे- जूस, सूप, पानी, नारियल पानी आदि का सेवन करें | 

हल्का भोजन करे – सादे भोजन का सेवन करें |

आप ऐसा करके खुद को  Dyspepsia(अपच) होने से बचा सकते है |

भोजन में आप हरी सब्जियां, दाल का पानी, उबली सब्जियां, उबला चावल, दही आदि का प्रयोग कर सकते है | 

वसायुक्त और मसालेदार भोजन से दूर रहे – खाने में यदि आप वसा और मसालें का प्रयोग अधिक करते है |

तो इसे कम करे या बिलकुल भी न खाये |

इस प्रकार के भोजन अपच की समस्या को बढ़ाते है |

भोजन कम खाये- कम मात्रा में खाना खाने से भोजन जल्दी पचेगा और आपको पेट सम्बन्धी कोई भी समस्या नहीं होगी | 

खाने को अच्छी तरह चबा कर खाये-  खाना खाते समय भोजन को अच्छी तरह चबा कर खाये |

इससे आप Dyspepsia(अपच) जैसी समस्या से बच सकते है | 

फ़ास्टफ़ूड का प्रयोग कम करे- बाहर के फ़ास्ट फ़ूड आइटम जैसे- बरगर, चाउमीन, पिज्जा, समोसा, आदि न खाये |

इन सभी से पाचन समस्या उत्पन्न होती है |

व्यायाम करें- अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम जरूर करें |

Dyspepsia(अपच)

Dyspepsia(अपच) होने पर घरेलू उपाय 

यह एक ऐसी समस्या है जो हर व्यक्ति को किसी न किसी समय हो सकती है |

आप दफ्तर में हो या घर में | अपच के कारण आपका मन अन्य किसी कार्य में नहीं लगेगा |

इसलिए इस समस्या से निपटने के लिए आपको  कुछ घरेलू नुस्खों की जानकारी होनी चाहिए |

घरेलू नुस्खे

नींबू पानी – Dyspepsia(अपच) के दर्द से निजात पाने के लिए 1 गिलास पानी में 1 निम्बू निचोड़ कर पीये |

आप चाहे तो इसमें आधी चम्मच चीनी भी मिला सकते है |

लौंग- लौंग में कई अमीनो एसिड होते है | जो हमारे पाचन शक्ति के लिए फायदेमंद है |

आप लौंग का सेवन चाय, सब्जी, पोलाव आदि में कर सकते है | 

सेब का सिरका – एक कप पानी में एक चम्मच सिरका और एक चम्मच शहद अच्छी तरह मिला ले |

इस मिश्रण को दिन में दो से तीन बार पिएं | यह आपके पेट सम्बन्धी समस्याओं को दूर करेगा | 

सौफ- सौफ को भून ले फिर उसे पीसकर छान ले |

अब आधा चम्मच पाउडर को 1 कप पानी में मिलाकर दिन में दो बार पिएं |  

अदरक- Dyspepsia(अपच) के लिए अदरक काफी फायदेमंद होती है |

आप 2 चम्मच अदरक का जूस, एक चम्मच नींबू का रस और 1 चुटकी काला नमक मिला ले |

इस मिश्रण को आप पानी से या बिना पानी के भी खा सकते है |

अदरक को आप चाय या गर्म पानी में डाल कर भी पी सकते है |  

तुलसी-  तुलसी की कुछ पत्तियों को गर्म पानी में खौला ले |

इस पानी को आप दिन में 2 – 3 बार पीये |

आपको काफी फायदा नजर आएगा | 

अजवाइन- अजवाइन उदर (पेट)रोगों के लिए काफी फायेमंद होती है |

आप प्रतिदिन अजवाइन का  सेवन करके  Dyspepsia(अपच) जैसे रोगों से बच सकते है | 

Dyspepsia(अपच) से बचने के लिए कुछ दवाएं – 

एंटासिड- ये दवायें अपच पर काफी असरदार होती है |

कुछ ही समय यह दवायें अपना असर दिखाती है |

अल्गीनेट्स- इन दवाओं का प्रयोग भी पेट में होने वाली Dyspepsia(अपच) के लिए किया जाता है |

अल्गीनेट्स एक झाग वाला बैरियर बनाता है जो आपके पेट की सामग्री की सतह पर तैरता है |

यह एसिड को आपके पेट में बनाए रखता है और भोजननली से दूर रखता है।

इससे आपको अपच से जल्द ही राहत मिलती है | 

( इन दवाओं का प्रयोग आप अपने डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही खाएं ) 

अपच के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपचार 

त्रिफला चूर्ण – रात में खाना खाने के बाद इस चूर्ण का सेवन करने से अपच जैसी समस्या से आराम मिलता है | 

हींग काली मिर्च अजवाइन का चूर्ण – इसके चूर्ण को गुनगुने पानी से दिन में 2 बार लेने से Dyspepsia(अपच) की समस्या नहीं रहती है | 

जीरा धनिया सोंठ का  चूर्ण –  यह चूर्ण खाना खाने के बाद गुनगुने पानी से दिन में 2 बार जरूर ले | | 

मुलेठी का चूर्ण – पेट में दर्द होने पर यह चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लेने पर आराम मिलता है |  

भुनी सौफ का चूर्ण – चूर्ण सुबह खाली पेट और रात में सोते समय गुनगुने पानी से ले | 

अपच से छूटकारा पाने के लिए योग 

अपने जीवन में योग और प्राणायाम के लिए अवश्य समय दे | यह आपके शरीर को निरोग बनाने में मदद करता है |

अपच से छूटकारा पाने के लिए आप वज्रासन, पश्चिमोत्तानासन, बालासन, पवनमुक्तासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, कपालभाती योग कर सकते है  |

हम उम्मीद करते है आपको Dyspepsia(अपच) से सम्बंधित सभी प्रश्नों का हल हमारे इस आर्टिकल में मिल गया होगा |

अगर आपके मन में इस विषय से जुड़ा कोई भी प्रश्न है तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते है |

इस विषय अपने विचार और सुझाव जरूर दे | धन्यवाद |

Leave a Reply